Advertisements
Feeds:
Posts
Comments

Archive for the ‘Listening to my Heart……..Dil Se…..’ Category


शहीदों की अमर कहानी को
तिल-तिल कर जीते देखा है!
हमने अपने उन अपनों को
हर आँसू पीते देखा है!

सो देश पे जो कोई हाथ बढ़े
हमको तो खंजर लगता है!
इस दिल के रिसते ज़ख़्मों में
फिर नश्तर-सा कोई चुभता है!

भूलें कैसे उन वीरों को
इक पल चैन से जो सोये नहीं!
भारतमाँ के जीवन के लिए
जो खुद कभी जिए ही नहीं!

हम सुंदर सजे हुए कमरों में
गीतों से दिल बहलाते हैं!
कभी ज्ञान की बातें करते हैं
खुशियों के दीप जलाते हैं!

क्योंकि दूर वहाँ इक प्रहरी खड़ा
बर्फ़ के बिस्तर पर सोता है!
देश के ही लिए जो जीता है
देश के ही लिए वो मरता है!

हमको अपनी हर इक मुस्कान
उनसे माँगी सी लगती है!
सूरज की सुंदर लाली भी
उनकी ही धरोहर लगती है!

‘मणि’

Advertisements

Read Full Post »


अच्छा हमको भी लगता है
सुख-सद्भावों की बात करें!
पर शान्ति अगर कोई न चाहे
कैसे उसका दम भरते रहें!
अच्छा हमको भी लगता है
मीठे झरने से बहते रहें!
पीठ में खंजर कोई घोंपा करे
फिर कैसे प्रीत की राह चलें!
अच्छा हमको भी लगता है
रंगीं फूलों से बिखरा करें!
यदि लाल रंग ही शेष बचे
कैसे शान्ति की बात करें!
अच्छा हमको भी लगता है
सब आबाद रहें खुशहाल रहें!
वो गुलशन जो बर्बाद करें
हम कैसे चमन गुलज़ार करें!
अच्छा हमको भी लगता है
चंदन से तिलक करते ही रहें!
वो शीश हमारा जो चाहें
कैसे हम ये स्वीकार करें!
                              ‘मणि’

Read Full Post »


” फूलों से हमें है प्यार बहुत
  पर काँटे भी सह सकते हैं!
  वतन को ज़रूरत पड़ जाए
  तो आग पे भी चल सकते हैं!
  कश्ती जो घिरे तूफानों में
  हम लहरों में पतवार बनें!
  मौजों के झंझावातों में
  हम जीत का जयजयकार बनें
  नज़रें न उठा के देखे कोई
  भारत के पहरेदार हैं हम!
  वफ़ा पर जान लुटा देंगे
  गद्दार के लिए ललकार हैं हम!
                                         ‘ मणि ‘

Read Full Post »


Read Full Post »


Dear All,

Posted a new song today which I have written… Please take time to listen whenever you can and give your blessings and true opinion _()_

Read Full Post »


This song is the childhood dream which has kept me awake many nights…An original song…I am very happy to have written it for my Educational Institution Lala Lajpat Rai Memorial Medical College Meerut from where I did MBBS and Post-Graduation from Sardar Vallabh Bhai Patel Hospital. We have OSA (Old Students Association) Celebration every year and this year our batch is celebrating Silver Jubilee…also the Golden Jubilee year of our College. Thank you Dear God, you have always been too kind, Thanks a lot Dear Ma and Papa, my Respected Teachers, heartfelt thanks to my Dear hubby Dr.Veerottam Tomer whose support at every step could make this song possible, very grateful to Anil William Sir for giving beautiful music to my simple lyrics, my Dear friends, all busy doctors…Dr.Sanjay Gupta, Dr.Amit Upadhyay, Dr.Neeraj Goyal, Dr.Sundeep Grover, Dr.Himanshu Singh, Dr.Vishal Agarwal, Dr.Mohd.Munazzam, Dr.Shalini Garg, Dr.Meetu Singh,Dr. Shilpi Jain, Dr.Anupma Upadhyay who whole-heartedly participated in the videography of the song, all my Dear family and friends for their encouragement always….It is an emotional moment for me, experiencing a kind of happy anxiety…hope that all like this song, Please give your true feedback and blessings _()_
The lyrics are…
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….
खट्टी- मीठी सी वो बातें
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….
खट्टी- मीठी सी वो बातें
वो LT(Lecture-Theatre) में seats कब्ज़ाना
Lunch-time में फिर गाने गाना
वो LT(Lecture-Theatre) में seats कब्ज़ाना
Lunch-time में फिर गाने गाना
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….
खट्टी- मीठी सी वो बातें

रातों को वो जग-जग के पढ़ना
Vivas में फिर रो- रो के जाना
डल्लू की चाय पीने जाना
रुचिका पे वो parties उड़ाना
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….
खट्टी- मीठी सी वो बातें

शाम के Clinics दिन के Lectures
Cycle-stand पर गप्पें लड़ाना
MBBS होने का सपना
रोज़ नींदों में यूँ ही सजाना
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….
खट्टी- मीठी सी वो बातें

Thank you O Dear OSA
कि वो बीते दिन वापस आये
हमारी खुशियों के प्यारे पल
जीने के मौके लाये
कॉलेज की वो सुनहरी यादें….खट्टी- मीठी सी वो बातें

English Translation…..
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments
Occupying seats in the LT (Lecture-Theatre)
And then singing songs in Lunch-time
Occupying seats in the LT (Lecture-Theatre)
And then singing songs in Lunch-time
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments

Sitting awake at nights to study
Crying before going for Vivas
Going to have tea at Dallu’s
Enjoying parties at Ruchika
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments

Evening Clinics, daytime lectures
Gossiping at Cycle-stand
Dreaming about being MBBS graduates
Every day in our sleep
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments

Thank you O Dear OSA
Those past days have returned
The happiness of sweet memories
We can relive again
Those golden memories of College…
Those sweet and sour moments

THIS IS AN ORIGINAL COMPOSITION…COPYING OR USING IT FOR COMMERCIAL PURPOSES IS NOT ALLOWED

Read Full Post »


Readers Digest Oct 2007

Readers Digest…October 2007

Read Full Post »

Older Posts »